Shares 132 Views

जब सर थॉमस एडिसन स्कूल में थे……एक दिन वे घर आकर अपनी माँ से बोले…”माँ… टीचर ने तुम्हारे लिए ये चिठ्ठी भेजी है।” उस चिठ्ठी को पढ़ के सर थॉमस की माँ के आँखो से आँसू टपकने लगे। हैरान होकर सर थॉमस ने माँ से पुछा “क्या हुआ माँ……….टीचर ने क्या लिखा हैं….” आँसू पोछते हुए उसकी माँ बोली…..”लिखा हैं कि आप का बेटा जीनियस हैं…… हमारा स्कूल बहुत छोटा हैं और शिक्षक बहुत प्रशिक्षित नहीं हैं…….. इसे आप स्वयं शिक्षा दें….” कई वर्षो के बाद थॉमस की माँ का स्वर्गवास हो गया। सर थॉमस एडिसन प्रसिद्ध वैज्ञानिक बन गए और उन्होंने कई महान अविष्कार किए। एक दिन जब सर थॉमस अपने पारिवारिक वस्तुओं को देख रहें थे……. उन्हें एक अलमारी में एक चिट्ठी मिली। वो वही चिट्ठी थी। पर जब सर थॉमस ने चिट्ठी खोल कर पढ़ी……… वे आष्चर्य चकित रह गए। चिट्ठी में लिखा था – आपका बच्चा बौद्धिक तौर पर कमज़ोर हैं और उसे अब इस स्कूल में नहीं पढ़ा सकते। सर थॉमस ये पढ़ कर घंटो तक रोते रहे………… और अपनी डायरी में लिखा…… “एक महान माँ ने बौद्धिक तौर पर कमज़ोर बच्चे को सदी का महान वैज्ञानिक बना दिया। ”

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Follow Us And get latest news